Latest Post

आधार कार्ड को राशन कार्ड से कैसे लिंक करें: ऑनलाइन और ऑफलाइन प्रक्रिया 5 मिनट में खोया हुआ वोटर आईडी कार्ड प्राप्त करें | डुप्लीकेट वोटर आईडी कार्ड
Spread the love

बन हरिनी कर बेटा —— फा. पीटर शांति नवरंगी

लोक कथा

नागपुरी लोक कथा बन हरिनी कर बेटा
बन हरिनी कर बेटा
पुस्तक—-अंगना 

oneliner:-

 
  • राजा कर नाँव रहे विक्रम दित।
  • विक्रम दित के शिकार खेलेक बहुत सवख । 
  • एक दिन ऊ अखंड बन में शिकार खेलेक गेलें । 
  • एक जगह उनके छोट बहार लागलक। 
  • इकर थोरके दिन पाछे ऊ दुइ जीवा होलक आउर भावेक लागलक ई का से भेलों। 
  • कय महिना बीतलक, तलेक हरिनों कर दिन पुरलक आउर ऊ एक बेटा छउवा, से हो अदमी छउवा के जनम देलक। 
  • ऊ छउवा के एक बड़का ढेंगुर कर हेंठें कोरकोट पतइमन में ढाइप के लुकाए देलक आउर समय-समय दूध पियाएक लागलक। 
  • थोरेक दिन बीतेक दे के ऊ एक राइत कोनो गाँव कर बाहरे गंदुर लाइल फिरलक। उहाँ ऊ फेकल चेथरामन आउर एक ठो फूटल तुम्बा पालक आउर ले आनलक। ऊ बेटा हार के कहलक- “बेटा आब तोएँ बाढ़ले, मोर दूध एकला पी के जिएक नी पारबे। 
  • तोएँ ई चेथरामन के गेंठियाए-गेंठियाए के पिंध आउर ई तुम्बा के टांइग के अदमीमनक गाँव मन में जा आउर दुरा-दुरा बुइल के भीख मांग। 
  • सांझ-सांझ घुइर आबे। आउर बन बाहरे जे बड़का इसन महुवा गछ आहे, उकर हैंठे ठाढ़ रहबे। उहाँ मोएँ तोके रोज भेंट करेक जामू।
  • हरिनी कहलक- “सुन मोएँ तोके एक गो गीत सिखाए देत हों। इके दुरा-दुरा गाबे होल अदमीमन तोके भीख दे:-
 
  • आइयो मोर बन के हरिनिय
  • बाबा मोर विकरम दित राय।
  • भीख दे गे माँय बहिनिया,
  • भीख दे गे माँय बहिनिया।
 
  • तोएँ पूरुब, पछिम, आउर उत्तर कर गांवमन में तो बुलबे, मगर दखिन बट ना जाबे।”
  • ऊ पहिले पुरुब बट सोझालक। 
  • ऊ जतना पारलक ओतना तुम्बा में भरलक, चिउरा के चेथरा में पोटम करलक आउर भात-तियन के तो ओहे जगन खालक, आउर तलेक जने ले आए रहे तने घुइर गेलक। 
  • छउवा जे चिउरा मुरही लाइन रहे, उके माँयहार के चाखेक देलक, तो हरिनी कर खुशी कर ठेकान निहीं।
  • राजा कहलेँ- जावा आउर उके इहाँय बोलाए लाना। कइह देबा कि उके इहाँ भरपूर भीख मिली।”
  • छउवा जबाब देलक- ‘महराज मोएँ खाली एतना जानोन कि एगो हरिनी मोके माँय सरइख दूध पियाए बढ़ालक |
  • मगर रानीमन मनेमन हिंसगा करेक आउर जरेक लागलेँ। उमन आपुस में सलहा विचार करलैं- राजा दोसर जनी कइर के कहाँओ राइख होवैं। 
  • एक दिन राजा छउवामन गुलेल बिंध – बिंध के खेलत रहैं। सेहे खन सउब रानीमन पोखरा से नहाए के आवत रहैं। हिने हरिनीक बेटा कर पारी रहे गुलेल चलाएक। 
  • ऊ गुलेल चलाबो करलक कि बड़की रानी झूठ-मूठ चिचियाए उठलक आउर भुँइ में ढनमनाए के कहे – हाय आयो ! हाय बाबा ! मोर डाँड़ा टुटिए गेलक ई छोंड़ा गुलेल से एक गोरहा बिंधलक आउर मोर डाँड़ा के तोइर देलक। 
  • ऊ खटिया उपरे सनइ पोराव मन के डिसाए के उकर उपरे दरी, दलइचा, डिसनामन डाइस के सुइत गेलक। 
  • रानी कहलैं- जे मोर डंडा तोइर हे, उके काइट के उकर लहू मोके मखाएक देब, होल मोएँ बेस होए घलमू। ‘
  • राजा  सिपाहीमन के बोला आउर हरिनी कर छउवा के जेहल में ले जाएक कर हुकुम दे | हुने ऊ एक दोसर सिपाही के कोनो कुकुर के काइट के उकर लहू लानेक भेजलें।
  • हरिनी  एक राइत ऊ सींघ में, दीया बाइर के आउर मुँड़ में खाएक चीजमन धारा में साइज बोइह के बेटाहार के खोजेक निसकलक। संजोग से ऊ नगर कर बाहरे जेहल घर ठिन पोहँचलक आउर कांइद-कांइद के बेटाहार के हँकाएक लागलक
  • हरिनी पोहँचलक आउर जेहल कर दुरा के इसन लाइथ मारलक कि दूरा फक के उघइर गेलक। 
  • आब जे बट ले हरिनी आलक, से बट ले एगो अहीर छपरी बनाए के राइत के आपन गरू-काड़ामन के ओगरत रहे। से ऊ हरिनी के देख के बहुत ताजुब करलक। दोसर आउर तीसर राइत जब उके ओहे डहर जाएक देखलक, तो चउथा राइत के ऊ उके पछड़लक, कि देखों तो ई हिने कहाँ जाएला आउर का करेला?
  • से राइत के राजा महल से चुपचाप निकल आउर अहीर कर छपरी में सुतेक गेलेँ। 
  • राजा उके धरबे करलैं। राजा कर धरत कि हरिनी एगो सुंदरी रानी में बदइल गेलक आउर कहे- .“छिः छिः के मोके धरत हे? रउरे के जे मोके छुवत ही? मोके जाएक देउ।”
  • मोएँ देव कर अप्सरा मेनका हेकों। एक दिन चिड़चिड़ा विश्वामित्र मुनि कोनो कामे इंदर ठिन आए रहैं। उनकर भेस के देइख के मोएँ हाँसी रोकेक नी पारलों। ओतने में मुनि खिसाए गेलैं आउर सराप देलैं|
  • हरिनी रानी कहलैं—–जे दिन रउरे हामरे के सुख से राखेक कर उपाय करब, महल ले इहाँ तक एक-एक ठेहुना सेंदुर कुधाब, आउर हामरे के माइन मरजाद से लेजेक आवब, से दिन रउर महल में जाब।”
  • बिहान होते-होते राजा नोकर चाकरमन के हुकुम देलैं कि- एक ठो नवाँ कुआँ कोड़ा।”
  • तीसर दिन आलक। कुआँ – चुमान कर सउब सराजाम तेयार होलक। राजा नोकर-चाकरमन के बताए देलैं कि केके का का करेक होइ 
  • तलेक रानीमन कुआँ पिंड़े चइढ़ के चुगुरदी ठाढ़ भेलें। बाम्हन महराज पूजा कर रीत पूरा करनेँ आउर हुकुम देलैं कि रानीमन एक साथ ठेहुनियाए के पूजा करों आउर कुआँ के चुमान देओंक। उमन चुमान देक लाइ निहरबो करलैं कि जेमन ठहराल जाए रहैं, सेमन रानीमन के कुआँ में ढेकइल के गढ़भरी कर दे।
  

झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए image पर लिंक पर क्लिक app download करें:-

Jharkhand Gk in Hindi JSSC
jharkhand gk in hindi 

इन्हें भी पढ़ें:- 

  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *