Latest Post

आधार कार्ड को राशन कार्ड से कैसे लिंक करें: ऑनलाइन और ऑफलाइन प्रक्रिया 5 मिनट में खोया हुआ वोटर आईडी कार्ड प्राप्त करें | डुप्लीकेट वोटर आईडी कार्ड
Spread the love
 

छोटकी बोहरिया लोक कथा-नागपुरी

Chotki Boharia Folk Tale - Nagpuri

लोक कथा

छोटकी बोहरिया लेखक —-फा. पीटर शांति नवरंगी

पुस्तक—-अंगना

oneliner:-

 
  • एगो राजा कर सात ठो बेटामन रहैं। सात-सात कर बिहा करूवाते करूवाते उकर डँड़ाए टुइट गेलक आउर ऊ गरीब होए गेलक। 
  • से ले गुजार चलाएक ले सउब भूती-बनी करेक लागलें। घरे रांधेक-बांटेक ले खाली एक झन के छोइड़ राखत रहैं।
  • पहिल दिन उमन पहिलेहें तीन तीन पइला भूती मांइग लानलैं ( धान) आउर बड़की बोहरिया के दे के कहलैं आइझ-रउरेहे घरे रहू आउर इके कुइट-छाँइट के हामरेक घुरतले कलवा( दोपहर का भोजन) तेयार करू।
  • तलेक छव झन पुतउमन, सात झन बेटामन आउर आपने बूढ़ा-बूढ़ी तेरह झन भूती करेक ले निकललें। बड़की बोहरिया कलवा तेयार करेक लागलक। 
  • पहिले ऊ सउब धान के रउद में घाँइट के सुखालक, तले काँड़ी में समाठ ले के कुटलक। कुटेक बेरा खुदी भेलक आउर बहुत धान नी कुटालक। आब ऊ पछरेक बइठलक । ऊ पछइर-पछइर के खुदी आउर नी कुटाल धानमन के तो फेइक देलक। जे चाउर थोरे कन बाँचलक उकर आधा के माँड़-भात रांधलक आउर जेखन काम करइया मन आलैं तो उमन के परइस देलक। 
 
  • सउब ले पाछे छोटकी बोहरिया कर पारी आलक। 
  • ससुर-भँइसुरमन तो सउब काम करेक बाहरे जाए रहैं, से ऊ अंगना आउर पिछवाइर बट निकइल के देखलक तो भूसा, खुदी आउर नी कुटाल धान सगरो फेकल रहे। ऊ तुरते ओड़िया आउर सूप निसकाए के पछरेक हेइल गेलक। ऊ पछइर टोकइस के एक बटे खुदी आउर धान से के घर कर सउब कोहिया, भाँड़ा, दउरा, ओड़िया आउर नाचूमन भइर-भइर देलक। ऊ खाएक भइर खुदी निकलाए के भिंजाए देलक तलेक धान कुटेक लागलक। कुइट-छाँइट के अधन चढ़ालक आउर एक बटे भात रांधेक आउर दोसर दने गुँड़ी पिसेक लागलक। ओहो काम के खतम कइर के बारी बटे ले साग तोइर लानलक आउर तियन रांधलका तलेक भात के एक दउरा में, रोटीमन के दोसर दउरा में, छिपा-छिपी, पइला, डुभनीमन के तीसर दउरा में साजलक आउर एक हाथे तियन कर भाँड़ा, दोसर हाथे लोटा लेके काम करइयामन ठिन जाएक लागलक। 
  • एक दिन बूढ़ाराम कर मने आलक तो सउब केउ के कहत है कि हामरे एतना दिन बहुत कस्ट सहली, से काइल हामरे काम में नी जाब, कहाँओ ले एक ठो खसी कीन लाना आउर बोहरियामन जे, जे आउर जइसन मन करी तइसन खाएक-पिएक तेयार करा।”
  • तलेक उमन सलहा करलैं- चला हामरे बन जाब। पतइ तोइर लानब आउर पतरी दोना सियब।”
  
  • जेठाइन-गोतनी कहे मोके तो पतइ के देख के इसन मन करत है कि इकरे में गुर – चिउरा खाओं।” मझली कहलक “मोके तो इसन लागत हे कि पतइ में दूध-दही खातों तो बड़ा सवाद लागतक। ” संझली कहलक- मोके तो ई पतइ में दाइल-भात खातो – से रंग लागत हे । ” इसने सउब केउ आपन- आपन मन कर बात कहलैं मगर सउब ले छोटकी मटियाए रहे। से गोतनी हार मन पुछलैं- का मइञा, तोएँ जे कोनो नी कहत हिस। तोके कइसन लागत हे? छोटकी कहलक- मोके तो इसन लागत हे कि – साइस-ससुर दुइयो के कोंजराए के ई पतइ में दूध-भात खियातों।
  • दे। छोटकी आशापति रहे। से ऊ धीर-धीरे आएक लागलक। 
  • माइको सभी गोतनी आपुस में कहेक लागली कि- मोएँ तो इकर में दूध-दही खातों रंग लागत हे- मोएँ तो इकर में दूध भात खातो रंग लागत है। 
  • तो छोटकी कहलक- “मोएँ तो इकर में साइस-ससुर कर करजा खातों रंग लागत हे।”
 
  • छोटका कर तो उकर से मने टुइट गेलक आउर कहलक जे जनी मोर माँय-बाप कर करजा खाइ ऊ डाइन निहीं तो आउर का? ई डाइन से मोर दिन नी गुजरी। 
  • छोटकी बहुते थाइक जाए रहे आशापति रहे जुदा, से ऊ झूपेक लागलक, आउर पुरुख हार कर जांघ में मुँड़ राइख के ढंलगलक तो निंदाए गेलक। 
  • बन आररा में एक गो पोखरा रहे आउर उकर पारे एक ठो नगर। पोखइर ठिन गेलक तो एगो जनाना के देखलक जे लुगा काँचत रहे। ऊ उकर ठिन नजिकालक आउर पुछलक कि “तोएँ के हेकिस आउर कहाँ रहिसला?
  • जनाना गो जबाब देलक “मोएँ एहे नगर में रहोंना। ई नगर में एगो राजा रहँना। मोएँ उनकरे रानी कर धंगरिन हेकों। आइझ ऊ मोके आपन लुगा मन काँचेक भेइज हैं।
  • रानी कर धंगरिन कहलक- बेस! मोएँ तोके काम देउवाए देमू। आव! मोर लुगा काँइच सँघराव तो मोएँ देखमू कि तोएँ बेस काम करइया हेकिस कि नी लागिस?
  • एक दिन दुइयो कर एके संगे छउवा जनमतैं,। छोटकी कर बेटा छउवा आउर धंगरिन केर बेटी छउवा । दुइयो बहुत खुस होलैं मगर छोटकी कर छउवा में इसन गुन रहे कि उकर मुँह ले जे लार टपकत रहे से सोना होए जात रहे आउर नाक कर पानी रुपा ।
  • रानी कर धंगरिन छोटकी कर छउवा के हटाए के आपन छउवा के उकर बदली सुताए देलक आउर छोटकी कर छउवा के आपने बेतराए के चइल देलक। कि ऊ रानी लखे रहेक लागलक आउर छउवा के सोनबइरसा नाँव दे के राजा छउवा लखे पोसेक लागलक।
  
  • तलेक ऊ जतना-सोना चांदी जमा कर रहे उकर सोनाक तानी आउर रूपाक भरनी बनुवाए के लुगा बिनुवालक आउर धंगरिन छउवा के ले के गांव-गांव खोइर-खोइर बुइल के हँकाए-हँकाए कहे लागलक- ले ले सोनाक तानी, रूपाक भरनी लुगा, के लेबा ?
  • अदमीमन घर से निकलेना आउर लुगा के देइख के पुछेना कि ई लुगा कर कतना दाम? तो ऊ कइह घुराएला- एक लाख रूपिया ले एको कचियाओ कम निहीं।
  • “रउरेमन बिचार करू कि सोनबरिस रउरे मनक रानी कर बेटा हेके कि मोर बेटा हेके? एक थान लुगा के सात धाँव दोबराए के परदा टांइग देउ। रानी सोनबरिस के कोरा में लेके एक बट बइठोक मोएँ ई छउवा के कोरा में लेके दोसर बट बइठमू । तले मोर छाती ले जे दूध फिचइक के जे लुगा पार कइर के सोनबरिस कर मुँह में जाइ तो ऊ मोर बेटा हेके ओहे तइर रानी कर छाती ले जे दूध फिचइक के जे मोर कोराक छउवाक मुँहे परी तो ई रानी कर बेटी हेके। अगर इसन नी होइ तो सोनबरिस के मोएँ आपन बेटा नी कहमू आउर उइठ जामू।
 
  • हुने छोटकी कर साइस-ससुर पुरुष- भँइसुर हरमन नेहाइत गरीब होए गेलैं। एकेक दिन उमन के खाएको ले नी जुरत रहे । से पुरुख आउर भँइसुर मन आब हर जुवइठ बनाए-बनाए के पेठियामन में बेचेक लेजत रहैं। जेठाइन हार मन बन ले पतइ – दतुन तोइर लानत रहैं आउर बेइच फिरत रहैं। 
  • एक दिन गोतनी हार मन पतइ – दतुन लेके छोटकी कर महल पोहँइच गेलैं। सोनबरिस तो उमन के नी चिन्हलक मगर माँय हार तुरते चिन्हलक आउर सउब पतइ-दतुन के कीन लेलक। 
  • तलेक ऊ एक ओर ले सउब होल-गेल बताए देलक। सुइन के उमन दंग रइह गेलें। तलेक कंदा-रोवा करेक लागलें। बूढ़ा उठलक आउर कहलक “ए बोहरिया हामरे रउर विरूध दुनिया बाहर महापाप करली कि रउरे के इसन सताली से धरती फाइट जाओक आउर हामरे इकर में टपाए मोरब।” मगर सोनबरिस तले कहलक- “अगर मोएँ आपन माँय-बाप कर सत बेटा हेकों तो ए धरती मइत फाटे । ”
 

झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए image पर लिंक पर क्लिक app download करें:-

Jharkhand Gk in Hindi JSSC
jharkhand gk in hindi
 

इन्हें भी पढ़ें:- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *