Latest Post

लाडला भाई योजना की शुरुआत ,10,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे। BSTC Rajasthan Pre-DElEd Result 2024 Declared: डायरेक्ट लिंक और डाउनलोड करने के चरण
Spread the love

झारखण्ड का नामकरण और पुरातात्विक स्रोत

Nomenclature and archaeological sources of Jharkhand 

नामकरण:-

 
  1. झारखण्ड का शाब्दिक अर्थ वन प्रदेश है|
  2. झारखण्ड क्षेत्र का सर्वप्रथम उल्लेख ऐतरेय ब्राह्मण में मिलता है|
  3. ऐतरेय ब्राह्मण में झारखण्ड क्षेत्र का उल्लेख पुण्ड् नाम से मिलता है।
  4. वायु पुराण में झारखण्ड को मुरण्ड नाम से संबोधित किया गया है।
  5. विष्णु पुराण में झारखण्ड को मुण्ड कहा गया है।
  6. महाभारत के दिग्विजय पर्व में झारखण्ड क्षेत्र की चर्चा पशु भूमि एवं पुंडरीक देश के नाम से मिलती है।
  7. टॉलमी द्वारा झारखण्ड को मुंडल शब्द से संबोधित किया गया है।
  8. फाह्यान द्वारा झारखण्ड की चर्चा कुक्कुट-लार्डनाम से की गयी है|
  9. ह्वेनसांग ने झारखण्ड के लिए की-लोना-सु-फा-ला-ना शब्द का प्रयोग किया है।
  10. मलिक मोहम्मद जायसी के पदमावत ग्रंथ में झारखण्ड शब्द का उल्लेख मिलता है।
  11. झारखण्ड शब्द का सर्वप्रथम उल्लेख 13वीं शताब्दी में एक ताम्र पत्र में किया गया था।
  12. मुगल काल में झारखण्ड को खुखरा/कुकरा नाम से जाना जाता था।
  13. अबुल फजल कृत अकबरनामा में छोटानागपुर क्षेत्र को झारखण्ड कहा गया है।
  14. जहाँगीर ने अपनी आत्म कथा तुज़ुक-ए-जहाँगीर में झारखण्ड क्षेत्र के लिए खोखरा शब्द का प्रयोग किया है।
  15. आइने अकबरी में झारखण्ड को कोकरा तथा खंकारह कहा गया है|
  16. समुद्रगुप्त की प्रयाग प्रशस्ति में झारखण्ड को मुरूड नाम से संबोधित किया गया है|
  17. चीनी यात्री ह्वेनसांग ने राजमहल क्षेत्र को कि-चिंग काई-लॉ नाम से संबोधित किया है।
  18. संथाल परगना को प्राचीन काल में नरीखंड तथा बाद में कांकजोल के नाम से संबोधित किया गया है।
  19. भागवत पुराण में झारखण्ड को किक्कट प्रवेश कहा गया है।
  20. पूर्व मध्यकालीन साहित्य में झारखण्ड को कलिन्द देश कहा गया |
  21. कबीर दास के दोहे में झारखण्ड शब्द का उल्लेख मिलता है।
  22. शाहवाज खाँ और अब्दुल हई ने माथिर-उल-उमरा में झारखण्ड क्षेत्र के लिए कोकरह शब्द का प्रयोग किया है।
  23. बहारिस्तान-ए-गैबो के लेखक मिर्जा नाथन ने झारखण्ड क्षेत्र को कुकरा देश नाम से संबोधित किया है।
  24. राँची जिला का प्राचीन नाम कोकरह, चुटिया नागपुर तथा विलकिनसनगंज/ किसुनपुर था|
  25. चुटिया नागपुर से छोटानागपुर शब्द अपभ्रंश होकर निकला।
  26. जे.एच. हेविट ने इस क्षेत्र को चुटिया नागपुर कहा।
  

      पुरातात्विक स्रोत:-

 
  • झारखण्ड में पुरातात्विक उत्खनन से पूर्व मध्य एवं उत्तरी पाषाणकालीन पत्थर के औजार एवं उपकरण मिले हैं।
  •  झारखण्ड में सबसे पुराने अवशेष पूर्व पुरापाषाण काल के हैं।
  • झारखण्ड में आदि मानव के निवास का साक्ष्य मिला है।
  • हजारीबाग जिले के इस्को नामक स्थान से आदि मानव द्वारा निर्मित चित्र मिले हैं।
  • इस्को में भूल-भुलैया जैसी आकृति भी मिली हैं।
  •  सीतागढ़ा पहाड़ (हजारीबाग) से छठी शताब्दी में निर्मित एक बौद्ध मठ के अवशेष प्राप्त हुए हैं।
  • विनोबा भावे विश्वविद्यालय, हजारीबाग के प्रतीक चिन्ह सौतागढ़ा से प्राप्त अष्टदल की ही अनुकृति है।
  • भवनाथपुर (गढ़वा) में प्रागैतिहासिक काल के दुर्लभ शैल चित्र एवं प्राकृतिक गुफाएँ प्राप्त हुई है।
  • भरतीय पुरातत्व में झारखण्ड के राँची, गुमला एवं लोहरदगा जिलों के लिए असुर शब्द का प्रयोग किया गया है।
  •  झारखण्ड के लुपंगडी नामक स्थल से ‘कब्रगाह’ के प्राचीन अवशेष मिले हैं।
  • लोहरदगा जिले से ‘कांसे का प्याला’ प्राप्त हुआ है।
  •  मुरद नामक स्थान से ताँबे की सिकड़ी और कांसे की अंगूठी मिली है।
  • बेनुसागर नामक स्थान से सातवीं शताब्दी की जैन मूर्तियाँ प्राप्त हुई है।
  • हजारीबाग के दूधपानी से आठवीं शताब्दी के अभिलेख प्राप्त हुए हैं।
  •  हजारीबाग के दूधपानी के निकट दुमदुमा से शिवलिंग प्राप्त हुआ है।
  • राजधानी राँचो के नामकुम से ताँबे एवं लोहे के औजार और वाण के फलक मिले हैं।
  • पाण्डु से चार पाये वाली पत्थर की चौकी मिली है, जो पटना संग्रहालय में रखा हुआ है। .
  • पलामू किला (लातेहार) से बुद्ध की भूमि स्पर्श मुद्रा में एक मूर्ति प्राप्त हुई है।
  • इटखोरी (चतरा) से गुप्तकालीन अवशेष मिले हैं।
  •  कवि गंगाधर (1373-78 ई.) द्वारा रचित प्रस्तर शिला-लेख गोविन्दपुर (धनबाद) से प्राप्त हुए हैं।

झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए image पर लिंक पर क्लिक app download करें:-

Jharkhand Gk in Hindi JSSC
jharkhand gk in hindi
 

इन्हें भी पढ़ें:- 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *