Latest Post

आधार कार्ड को राशन कार्ड से कैसे लिंक करें: ऑनलाइन और ऑफलाइन प्रक्रिया 5 मिनट में खोया हुआ वोटर आईडी कार्ड प्राप्त करें | डुप्लीकेट वोटर आईडी कार्ड
Spread the love

नवाचाँद आउर गोपीचाँद लोक कथा-नागपुरी

नवाचाँद आउर गोपीचाँद 

लोक कथा

 

नवाचाँद आउर गोपीचाँद —— फा. पीटर शांति नवरंगी

 पुस्तक—-अंगना

oneliner:-

 
  • इसन एकठो नगर रहे, जहाँ एक लखपइत राजा राइज करत रहे। उकर एक सुन्दरी रानी आउर दुइ झन बेटामन रहैं, नवाचाँद आउर गोपीचाद| कइसन होते-होते राजा गरीब होए के मइर गेलक आउर रानियो उकर सती भेलक। 
  • जाते-जाते तीन महीना दिन गुजइर गेलक, आउर छोंड़ामन एक अनजान राइज में उपर होलें ।
  • ऊ राइज कर अदमी मनक दिन बड़ा आफइत में बीतत रहे, काहे कि एक राकस उमन के धइर-धइर के खात रहे। 
  • नवाचाँद आउर गोपी चाँद सांझ-सांझ ऊ राइज में पोहँचलैं हार एक गाँव में डेरा करेक गेलें। 
  • हिने छोटका छोंड़ा ठो अनइत थाइक जाए रहे आउर आगे गोड़ो उठाएक नि पारत रहे। से बड़ा मसकिल से उमन एक राँड़ी बुढ़िया कर घरे आतैं हार डेरा मांग | 
  • तब बुढ़िया कहलक, “ए बाबुमन, मोएँ तोहरे के जरूर रहेक देतों। मगर आइज-काइल इ राइज में बड़ा बिपइत पइरहे । एकठो भयानक राकस कहाँ ले आए-धमइकहे आउर बहुत अदमीमन के धइर-धइर के खाए चुइकहे।
  • ” बड़ छोंड़ा कइह घुरालक, “ए माँए, रउरे मइत डराउ। राकस हमरे के कोनो नि करी । ऊ आवी होल हमर खाँड़ा-फेरिए के देख के पाछे फिरी । 
  • राकस तरे- उपरे दाँत कइर के “रट-रट, रट-रट” चाबते आवेला, सेखन सबदे के सुइन के परान उड़ेक-नियर होएला । 
  • इसन कइह के दुइयो भाइ जबरजस्ती पिंडा उपरे चढ़लें | आउर आपन गठरी – मोटरीमन के मँड़ाए के सुसताएक बइसलैं| 
  • तनिक सुसताए के बड़ छोड़ा बुढ़िया के पानी माँगलक, चिउरा निकलालक, तलेक दुइयो भाइ चिउरा खालैं हार पानी पीलें। 
  • ई घरी बड़ छोड़ा, नवाचाँद, आपन झोरी खोइल के का-जा जड़ी-बुटीमन चुइन निकलालक आउर घर ले तनिक दूरे खोइर में, जने ले डहर आवत रहे, गाइड़ देलक, मन्तर फूँइक राखलक आउर घुइर के भाइहार के उठालक आउर कहलक, “ए भइया, ना डराबे| अब राकस कर आवेक समय भेलक।” गोपीचाँद कहलक, “नि दादा डराबु।”
  • नवाचाँद मन्तर पढ़लक कि”तार-पत्तर कर एक ढाबइर खाँड़ा से इसन मारों रे राकस कि तीन टुकरा होए जाबे । ”
  • ई सुइन के राकस हुआँ ले भाइग चललक आउर गाँव ले निकइल गेलक। 
  • ” बुढ़िया कहलक, राजा ढिंढोरा पिटवाए देहे, कि “जे अदमी राकस के मारी, सेके हम आपन बेटी बिहा देब, आउर आपन आधा राइजो दे देब।” ई बात सुइन के दुइयो भाइ कुइद उठलएँ, 
  • राकस दवइ-गाड़ल जगह पोहँचलक तो अचक ठहइर गेलक, काहे कि दवइ कर मारे आँइख उकर निंझ गेलक। तइसने नवाचाँद गुल कर के मन्तर पढ़लक -एक तार पत्तर एक ढाबइर खाँड़ा से इसन मारों रे राकस कि तीन खँड़ा होए जाबे । ”
  • पाँच-छव दिन में बड़ छोंड़ा सउब रकम कर जड़ी-बुटीमन के खोइज-खुजाए के एक बेस दवइ तेयार करलक। तलेक राइत के, केउ उके देखेक आउर जानेक नि पारतएँ सेखन, ऊ जाय के गाँव कर बाहरे राकस कर आवेक डहरे दवइ के गाइड़ देलक। 
  • मगर जइसे-जइसे ऊ गाँव के नइजकालक तइसे-तइसे उकर मन बेयाकुल होएक लागलक। से ऊ दवइ-गाड़ल ठिन बउराल लखे पोहँचलक, आउर दवइ के सूँघलक तो होसे उकर बेंड़ाए गेलक। तइनके देरी में ऊ ओहे ठिन घोसराए भेलक, गरइज-गरइज के ढनमानाए फिरलक, तलेक खुरियाए-खुरियाए के मइर गेलक।
  • दुइयो भाइ तुरते गेलएँ आउर राकस के मरल पाए के उकर नाक, कान, जीभ आउर अंगुरमन के काटलएँ, आँइखमन के गोइज निकलालएँ, आउर सउब के झोरी में राइख के चुपचाप डेरा अपन घुरलएँ आउर सुइत रहलाएँ ।
  • दोसर दिन बिहाने एगो कुम्हार चेरू, तावा आउर गगरीमन के बोइह के हार ओहे डहर होए के पेइठ में बेचेक जात रहे, तो दूर ले राकस के मरल आउर कुधाल देखलक। राकस के काने-कपारे डाँगे-डाँग ढेढ़ाएक हेललक आउर पीट-पाइट के गुल-गुल कइर देलक। 
  • सेहे खन नवाचाँद उइठ के सवाल करलक, कि “का जानी राकस के ई कुम्हार माइरहे, कि केउ दोसर अदमी माइरहे। 
  • नवाचाँदक हलक, , “अगर कुम्हार में इसन बल आहे, तो उके एकठो खस्सी दियाल जाओक, आउर ऊ उके अपन बहिंगा से ओहे लखे गुलगुल करोक आउर उकर नाक-कानमन के उड़ाएक देओक।” 
  • अब दुइयो भाइ में सलह होएक लागलक कि के बिहा करी। बड़ भाइ कहलक, “ए रे, मोके बिहा-सादी से कोनो मतलब नखे | मोके खाली तोर सुख-चइन देखेक आहे। से तोहें रानी-बेटी के बिहा कर।” छोट भाइ कहलक, “दादा, जब तक तोएँ, बड़ भाइ बिहा नि कइर लेबे तब तक मोएँ छोट भाइ कइसे बिहा करों? 
  • छोट भाइ अन्त में मंजुर करलक आउर रानी-बेटी से उकर बिहा होए गेलक।
  • गोपीचाँद कर कनया बड़ सुन्दरी राजकुँवारी रहे। उकर गतर चपा-कली लखे रहे, चेहरा पूर्नमासी कर चाँद लखे, आउर बहुत लम्बा-लम्बा केंस सोना-बरन कर रहे, इसन कि देखइया कर आँइख झपइक जात रहे । 
  • एक दिनक बात। नावाचाँद कोनो कामे अपन भाइ कर महल में गेलक, तो देखतहे का कि बहुरियाहार ओहेखन नहाए उइठ के आँगन में बइठ आहे आउर केंस आपन के तीन ठो खटिया में छितराए के सुखाए रहल आहे | 
  • उकर मने पाप आलक आउर ऊ पसताएक लागलक, कि “मोहें रानी-बेटी से काहे बिहा नि करलों? 
  • एक दिन नवाचाँद गोपीचाँद के कइह भेजलक, “ए भइया, राज-पाट कर काम से मोके अकबकी लागत से काइल सिकार खेलेक चल। 
  • तोएँ सउब ले बेस घोड़ा पंखराज में सवार हो आउर अपन संग लिलिया कुकुर के ले । मोएँ तो हंसराज घोड़ा कर सवारी करयुँ आउर भुलिया कुकुर के संगे राखबुँ।” 
  • ” रानी कहलक, “रउरे मोर लागिन अनदेसा न करू । जीवन में मोएँ रउरे कर रहों, मरइनो में मोएँ रउरेहें कर रहबुँ। 
  • से कोनो होइ होल, मोएँ सती होए के आपन धरम पूरा करबुँ।” 
  • बिहाने गोपीचाँद अनगुते उठलक आउर बेस लखे नहाए- धोए के रानी के कहलक, कि “हे पिया, मोर सउब सिंगार मनके लाइन दे। आइज मोएँ बेस पिंथ-ओइढ़ के सिकार खेलेक जाबु का जानी उमनके आब कहियो पिंधबु कि निहीं।” 
  • तलेक राजा आपन एक-एक सिंगार के मांगे, आउर रानी काँइद-काँइद के एक-एक सिंगार निकलाए आउर पिंधाए देक लागलक – लानु से रानी मालबही तेल हो राम। आजुक दिने माखिए रहब हो राम ।।1।। लानु से रानी तिलक-चन्दन हो राम ।………………………
  • रानी अपने हाँथ से राजा के तरवाइर बाँइध देलक, उकर खाँधे धनु आउर पीठे तरकस टाँइग देलक। 
  • से खन राजा एक लोटा दूध मांगलक आउर उके तुलसी बुदा ठिन राइख के कहलक, “ए पिया, अब मोएँ तोर से बिदा लेतहों। ई लोटा कर दूध आउर तुलसी बुदा के देखते रहो।
  • मगर लोटा कर दूध लहू होए जाइ आउर तुलसी बुदा मुरझाए जाइ, तो जानबे कि मोएँ अब ई दुनिया में नखों, आउर तोएँ आपन बुझ्ध नियर जे उचित समझबे से करबे!” 
  • रानी आखिरी डेयोढ़ी तक आलक आउर राजा कर अन्तिम दरसन करलक।
  • चलत-चलत एक जोजन दूर निकइल गेलएँ तब नन्दन नाँवक एक महाबन मिललक। 
  • सेखन नवाचाँद सिकर-इतमन के कहलक, कि “लगे तोहरे हियाँ पानी पीके सथाए लेबा, हमरे दुइयो भाइ तनिक आगे जाए के देखब कि हुने कोनो सिकार कर लछन मिली कि निहीं।” 
  • तब तो सउब केउ नदी-तीरे ठहइर गेलएँ, आउर पानी पीएक, नहाएक आउर सुसताएक लागलएँ 
  • बड़ भाइ आपन घोड़ा के उके पीछा करेक लागलक। इसने कतइ दूर घोड़ा कुदाते चइल गेलएँ, तो गोपीचाँद कर घोड़ा गुँगु लरंग में बाइझ गेलक। सेहे खन बड़ भाइ घोड़ा दउड़ाते पोहँचलक आउर तलवाइर खींच के भाइ अपन के काइट गिरालक, तलेक घोड़ा ले उतइर के भाइहारक अंग-अंग के खट-खट काइट- काइट के खुदरी – खुदरी कइर देलक आउर कोरकोटा पतइमन में डाइब देलक। 
  • सेखन रानी कहलक, “भँइसुर देवता, आब तो हम रउरेकर होबे करब । पहिले रउर भाइ कर माटी-काठी करेक दे लेउ । तलेक जे होवइया आहे से होइ । जाउ किरिया- करम कर सरजाम जोगाड़ करू, डोली फंदवाउ आउर रउर भाइ ठिन ले चलु! उनकर आतमा के सान्ती दे आवब।”
  • सउब बटे ढिंढोरा पिटवाल गेलक कि “राजा सिकार खेलेक जाए रहएँ, से बने में नोकसान होए गेलएँ 
  • सेकर पाछे रानी खोएँचा में मरचइ-गुँड़ा लेके डोली में जाए बइठलक। 
  • फिरलक। एहे लखे जाते-जाते दुपहर होए गेलक। 
  • हिने ई लखे रानी कांदतहे। हुन भँइसुरहारक हुकुम पाए के नोकर-चाकर आउर दोसरमन चिता बनात हएँ। 
  • अन्त में चिता तेयार भेलक। रानी आपन हाँथे लोथ के चिता ऊपरे जोइर-जोइर के राखलक । तब घीउ के उकर उपर उझइल देलएँ । नवाचाँद भाइहारक मुँहे बेल फर डाइर देलक आउर चिता में आइग लगाए देलक। 
  • सेहे खन रानी काइंद के कहलक, “ओहरे दइया, मोर सँइया कर जरेक देखेक लागिन कि आइज दिने माझे अकास में तइरगनमन उइग आहएँ । ” 
  • रानी खोएँचाहार ले मरचइ-गुंडा निकलाए – निकलाए के उपर छींट देलक आउर अपने झटके डेइग के चिता में झाँप दे देलक | 
  • नवाचाँद फिर महल नि घुरलक, साधु होए गेलक, एकठो एकतारा बनालक उ ओहे गीत के गाए-गाए के गाँव-गाँव में फिरेक आउर भीख जिएक लागलक।
  • राख कर ढेइर डे देख के पारबती कहलएँ, “तेउ मोएँ जानेक चाहतहों कि ई बन माझे ई राख कइसे आलक!” महादेव कहलएँ, 
  • पारबती सुइन के बड़ खुस भेलएँ आउर कहलएँ, “इसन इस्तरी-पुरूख कर पेरेम के तो रउरे के अमर करेक चाही। से रउरे दुइयो के जियाए देउ ।”
  • पारबती कर बात सुइन के महादेव नसदानी ने धतुरा – गुंडा निकलाए के राख उपरे भुरभुराए देलएँ आउर आपन डमरू के बजाएक लागलएँ, तो सगर सिरिस्टी गिदगिदाएक लागलक, नदी – समुन्दर लहराएक लागलएँ आउर बन-पहार थिरइक उठलक। सेहे खन दुइयो राजा-रानी “जय जीउ” कइह के जी- घुरलएँ आउर महादेव आउर पारबती के गोड़ लागलएँ |
  • एकठो सुन्दर नगर बइस गेलक। महादेव आउर पारबती, राजा-रानी के ई सउब सोंइप देलएँ आउर हुआँ उमन के सुख आउर पेरेम से राइज करेक कइह के बिदा भेलएँ।
  • एक दिन नवाचाँद भीख मांगते-मांगते सुनलक कि नन्दन बन में एक नवाँ राइज आउर नवाँ नगर बइनहे। हुआँ कर राजा-रानी बड़ा दानी आहएँ। 
  • से ऊ नगर में गेलक। एक दिन भीख मांगेक ऊ महल में पोहँचलक आउर गावेक लागलक
  • नवाचाँद गोपीचाँद दुइयो भाइ रही,आनक तिरिया बदे भाइ मोर के मारलो हो राम,
  • एक साधु आपन टूटल काया में सगरो भभूत लगाए के आउर एकतारा बजाए-बजाए के कांदेक आउर गावेक लाइगहे
   

झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए image पर लिंक पर क्लिक app download करें:-

Jharkhand Gk in Hindi JSSC
jharkhand gk in hindi
 

इन्हें भी पढ़ें:- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *