Latest Post

लाडला भाई योजना की शुरुआत ,10,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे। BSTC Rajasthan Pre-DElEd Result 2024 Declared: डायरेक्ट लिंक और डाउनलोड करने के चरण
Spread the love
 

Jharkhand Gk in Hindi JSSC

झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए image पर लिंक पर क्लिक app download करें:-  

 झारखण्ड के प्राचीन राजवंश

झारखण्ड के मुंडाराज  

  
  • झारखण्ड में राज्य निर्माण की प्रक्रिया सर्वप्रथम मुंडा जनजाति के लोगों ने शुरू की।
  • रिता/रिसामुंडा प्रथम जनजातीय मुंडा नेता था, जिसने राज्य निर्माण की प्रक्रिया शुरू की।
  • रिता/रिसामुंडा ने सुतिया पाहन को मुंडाओं का शासक चुना।
  • रिता/ रिसा मुंडा ने नये राज्य का नाम सुतिया नागखण्ड रखा।
  • सुतियाके राज्य 7 गढ़ एवं 21 परगनों में विभक्त था।
  

झारखण्ड के नागवंशीराजवंश

 
  • नागवंशीराज्य की स्थापना प्रथम शताब्दी में की गई थी।
  • नागवंशीराज्य की स्थापना फणिमुकुट राय ने की|
  • फणिमुकुटराय प्रथम नागवंशी राजा थे।
  • फणिमुकुटराय के राज्य में 66 परगने थे।
  • फणिमुकुटराय ने सुतियाम्बे को अपनी राजधानी बनाया
  • फणिमुकुटराय को नागवंश का आदिपुरूष माना जाता है।
  • फणिमुकुटराय पुंडरीक नाग एवं वाराणसी की ब्राह्मण कन्या पार्वती के पुत्र थे।
  • फणिमुकुटराय का विवाह पंचेत के गोवंशीय राजपूत घराने में हुआ था।
  • फणिमुकुटराय के दीवान पांडे भवराय श्रीवास्तव थे।
  • राजाप्रताप राय ने अपनी राजधानी सुतियाम्बे से बदलकर चुटिया कर ली।
  • चुटियास्वर्ण रेखा नदी के तट पर बसा था।
  • नागवंशीराजा भीम कर्ण ने खुखरा को अपनी राजधानी बनाया।
  • नागवंशीराजा भीम कर्ण ने भीम सागर का निर्माण करवाया था।
  • नागवंशीराजा भीम कर्ण को सरगुजा के हेहयवंशी रक्सैल राजा के साथ युद्ध करना पड़ा।
  • नागवंशीराजा भीम कर्ण बरवा की लड़ाई में विजयी हुआ।
  • नागवंशीराजा भीम कर्ण को बरवा की लड़ाई में लूट के रूप में वासुदेव की एक मूर्ति प्राप्त हुई।
  • राँचीस्थित जगन्नाथ मंदिर का निर्माण नागवंशी राजा ऐनी शाह द्वारा कराया गया था।
  • 1691 . में नागवंशी शासक ऐनी शाह द्वारा जगन्नाथ मंदिर का निर्माण कराया गया था।
  • नागवंशीराजा ऐनी शाह ने स्वर्णरेखा के समीप सतरंजी में अपनी राजधानी स्थापित की थी।
  • नागवंशीशासक दुर्जन शाह ने दोइसा को अपनी राजधानी बनाया।
  • नागवंशीशासक दुर्जन शाह ने दोयसा में नवरत्नगढ़ राजप्रसाद का निर्माण कराया था।
  • नागवंशीशासक जगन्नाथ शाहदेव ने पालकोट भौरों को अपनी राजधानी बनाया था।
  • नागवंशीशासक यदुनाथ शाह ने पालकोट को अपनी राजधानी बनाया।
  • नागवंशीशासक प्रताप उदयनाथ शाहदेव की राजधानी रातुगढ़ थी|
  • नागवंशीराजाओं की राजधानी का सही क्रम सुतियाम्बे, चुटिया, खुखरा, डोसा, पालकोट एवं रातूगढ़ है।
  • शिवदासकरण नामक नागवंशी राजा ने हप्पामुनि मंदिर (घाघरा ) का निर्माण कराया था।
  • नागवंशीशासक चिन्तामणि शरणनाथ शाहदेव के शासनकाल में जमींदारी उन्मूलन हुआ।

झारखण्ड के रक्सैलराजवंश  

  • पलामूमें प्रारंभ में रक्सैल राजवंश का आधिपत्य था।
  • रक्सैलवंश के लोग स्वयं को राजपूत कहते थे।
  • रक्सैलवंश के लोग चेरो द्वारा अपदस्थ किये गये।

झारखण्ड के चेरोराजवंश  

  • भागवतराय द्वारा पलामू में चेरो वंश की स्थापना की गई थी।
  • मंदिनीराय सर्वाधिक प्रतापी चेरो शासक था। इसके शासन काल को चेरो राजवंश कास्वर्णयुगकहा जाता है।

झारखण्ड के सिंहराजवंश  

  • काशीनाथसिंह सिंहभूम के सिंह वंश की पहली शाखा के संस्थापक थे।
  • दर्पनारायण सिंह सिंहभूम के सिंह वंश की दूसरी शाखा के संस्थापक थे।
  • सिंहभूमको पोराहाट के सिंह राजाओं की भूमि कहा गया है।

झारखण्ड के मानराजवंश  

  • मानभूमके मान राजवंश का राज्य हजारीबाग एवं मानभूम में विस्तृत था।
  • गोविंदपुर(धनबाद) में कवि गंगाधर द्वारा रचित प्रस्तर शिलालेख में मानभूम के मान राजवंश का उल्लेख है।
  • हजारीबागके दूधपानी नामक स्थान से प्राप्त गुप्त शिलालेख में मानभूम के मान राजवंश का उल्लेख है।

रामगढ़राज्य  

  • रामगढ़राज्य की स्थापना 1368 . में बाघदेव सिंह द्वारा की गयी थी।
  • रामगढ़राज्य के राजा हेमन्त सिंह ने अपनी राजधानी उर्दा से हटाकर बादम में स्थापित की।
  • रामगढ़राज्य के राजा दलेल सिंह ने अपनी राजधानी बादम से हटाकर रामगढ़ कर दी
  • रामगढ़राजा तेज सिंह ने अपने शासन का संचालन इचाक से किया।
  • कामाख्यानारायण सिंह रामगढ़ की गद्दी पर 1937 . में बैठे।
  • रामगढ़के राजा की मूल राजधानी रामगढ़ थी।
  • सिसियाउर्दाबादम, रामगढ़, इचाक तथा पदमा रामगढ़ राज्य की राजधानियों का सही क्रम है।

अन्यराजवंश  

  • सिंहभूमके धालभूल क्षेत्र में धाल राजाओं का शासन था।
  • खड़गडीहाराज्य की स्थापना हंसराज देव ने की थी।
  • हंसराजदेव भारत के रहनेवाले थे।
  • मानभूमक्षेत्र का सर्वाधिक शक्तिशाली राज्य पंचेत था।
  • पंचेतराज्य के राजा ने कपिला गाय की पूँछ को राजचिन्ह के रूप में स्वीकार किया था।
  • पलामूरियासत की राजधानी पलामू गढ़ औरंगा नदी के तट पर थी।
  • कुंडेरियासत हजारीबाग जिले में अवस्थित थी।
  • सोनपुरारियासत पलामू जिले में अवस्थित थी।
  •  

  वैदिक कालमें झारखण्ड  

  • ऋग्वेदिक कालमें झारखण्डको कीकटप्रदेश केनाम सेजाना जाताथा।
  • ऋग्वेद मेंझारखण्ड कोकीकटानाम देशोंअनार्यकहकरसंबोधित कियागया है।
  • अथर्ववेद कालमें झारखण्डके लोगोंकोव्रात्यकहा जाताथा
  • वैदिक साहित्यमें प्रयोगकिया जानेवालाअसुरशब्द संभवतःझारखण्ड कीजनजातियों केलिए प्रयुक्त हुआहै।
  • ऐतरेय ब्राह्मणमें झारखण्डको पुण्ड्र/पुण्ड कहागया है
  • सुह्य देशका संबंधवर्तमान संथालपरगना क्षेत्रसे है
  • अंग एवंपुण्ड्र स्थानपर आजका झारखण्डराज्य विस्तृतहै।

महाभारत कालमें झारखण्ड  

  • महाभारत कालमें झारखण्डवृहद्रथवंशी जरासंघके अधिकारक्षेत्र मेंथा।
  • अपने शत्रुओंको बंदीबनाकर जरासंघझारखण्ड केजंगल मेंछोड़ देताथा
  • जरासंघ केसमय झारखण्डमगध साम्राज्य कादक्षिणी भागथा
  • हर्यक वंशके राजाबिम्बिसार कीइच्छा झारखण्डके क्षेत्रमें बौद्धधर्म काप्रचार करनाथा
  • नंद वंशके समयझारखण्ड मगधसाम्राज्य काअंग था
  • नंद वंशकी सेनामें हाथीझारखण्ड केजंगलों सेभेजे जातेथे |
  • नंद वंशकी सेनामें जनजातीयतत्वों कासमावेश था

झारखण्ड मेंबौद्ध एवंजैन धर्मका प्रभाव  

  • झारखण्ड गौतमबुद्ध केधर्म प्रचारका क्षेत्रथा
  • धनबाद केदलसी औरबुद्धपुर मेंअभी भीअनेक बौद्धअवशेष बचेहुए हैं।
  • कंसाई नदीके तटपर स्थितबौद्ध स्थलबुद्धपुर मेंबुद्धेश्वर मंदिरस्थित है।
  • राँची केजोन्हा जलप्रपात, गुमलाजिले केकुटगा ग्राम, जमशेदपुर केभूला तथाधनबाद केईचागढ़ स्थानसे बुद्धकी मूर्तियाँ मिलीहै।
  • झारखण्ड क्षेत्रमें समुद्रगुप्त केप्रवेश केबाद बौद्धधर्म कापराभव शुरूहुआ।
  • बंगाल केपाल शासकोंके समयबौद्ध धर्मका बज्रयानसम्प्रदाय झारखण्डमें फलफूल रहाथा।
  • झारखण्ड केपारसनाथ कोजैन धर्मका मक्काकहा जाताहै |
  • जैन धर्मके 24 मेंसे 20 तीर्थकरों नेपारसनाथ पर्वतजिसे सम्मेदशिखर भीकहा जाताहै, परनिर्वाण प्राप्तकिया
  • पारसनाथ पर्वतपर मोक्षप्राप्त करनेवाले अंतिमतीर्थकर पार्श्वनाथ थे|
  • जैन धर्मके तीर्थंकर पार्श्वनाथके नामपर पारसनाथपर्वत कानामकरण हुआहै।
  • पारसनाथ पर्वतजैन धर्मके श्वेताम्बर दिगम्बर संप्रदाय कापवित्र स्थलहै।
  • पारसनाथ पर्वतझारखण्ड केगिरिडीह जिलेमें स्थितहै।
  • गिरिडीह जिलेका मधुवनस्थल श्वेताम्बरी जैनियोंका तीर्थस्थल है।
  • झारखण्ड मेंबौद्ध धर्मके साथसाथ जैनधर्म काभी व्यापकप्रचारप्रसारहुआ
  • झारखण्ड मेंमानभूम जैनसभ्यता एवंसंस्कृति काकेन्द्र था
  • कंसाई औरदामोदर नदियोंकी घाटीमें जैनअवशेष अभीतक बिखरेपड़े है।
  • पलामू जिलेके हनुमांडगाँव (सतबरवा) से जैनियोंके पूजास्थल मिलेहैं।
  • चतरा जिलेसे बौद्धएवं जैनकी अनेकोंमूर्तियाँ प्राप्तहुई हैं
  • चतरा जिलेमें जैनियोंके नौसर्पक्षत्रोंयुक्त तीर्थंकरों कीप्रतिमा है।
  • चतरा जिलेके कोल्हुआपहाड़ केपत्थर परएक पदचिन्हहै जिसेजैनी पार्श्वनाथ काचरण चिन्हमानते हैं
  • कोठेश्वरनाथ कास्तूप ईटखोरी(चतरा) मेंस्थित है।

        मौर्यकाल से हर्ष काल तक झारखण्ड  

  • चाणक्यने अपनी प्रसिद्ध रचनाअर्थशास्त्रमेंझारखण्ड को कुकुट देश के नाम से संबोधित किया है
  • चन्द्रगुप्तमौर्य झारखण्ड प्रदेश से अपनी सेना के लिए हाथी मंगाता था
  • मौर्यसम्राट अशोक के 13वें शिलालेख में झारखण्ड क्षेत्र की चर्चा की गयी है।
  • अशोकने शिलालेख-13 में झारखण्ड क्षेत्र की चर्चा अटावी नाम से की है।
  • झारखण्डक्षेत्र में बौद्ध धर्म के प्रचार हेतु अशोक ने एक धर्म अधिकारी भेजा था,जिसका नाम रक्षित था
  • मौर्यसम्राट अशोक ने कलिंग अभिलेख संख्या-2 में लिखा है कि इस क्षेत्र की जनजातियों को मेरे धम्म का आचरण करना चाहिए
  • कलिंगराजखारवेल झारखण्ड के रास्ते से मगध पर विजय हासिल करने में सफल हुआ।
  • झारखण्डमें कनिष्क, जो कुषाण वंश का सबसे महानतम राजा था, के समय के सिक्के राँची एवं सिंहभूम से प्राप्त हुए हैं
  • कुषाणोंका प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से इस क्षेत्र पर अधिकार था
  • सिंहभूममें रोमन सम्राटों के सिक्के मिले हैं |
  • चाईबासामें इण्डोसीथियन सिक्केमिले हैं|
  • समुद्रगुप्तने पुण्ड्रवर्धन, जिसमेंझारखण्ड का अधिकांश भाग शामिल था, को अपने साम्राज्य में मिलाया
  • राँचीके निकट पिठौरिया पहाड़ पर एक गुप्तकाल का कुंआ मिला है|
  • गुप्तकालमें आये चीनी यात्री फाह्यान ने राँची को कुक्कुटलाड कहा है।
  • समुद्रगुप्तकी सेना दक्षिण कोशल पर आक्रमण के समय झारखण्ड से होकर गुजरी थी
  • 600 . के आसपास अंगराज जयनाग जिसके अधीन संथालपरगना भी था, के सेनापति शशांक ने मगध राजा गृहवर्मन को हराकर मगध राज्य पर अधिकार कर लिया
  • बेनीसागरके शिव मंदिर का निर्माण शशांक ने कराया था
  • हर्षके समय आये ह्वेनसांग ने इस क्षेत्र को कीलोनासुफालाना (कर्णसुवर्ण) कहा है|
  • ह्वेनसांगके यात्रा वृतान्त में राजमहल क्षेत्र की चर्चा है।
  • प्राचीनझारखण्ड में शशांक एक ऐसा राजा था जिसने यहाँ लंबे समय तक राज किया
  • कन्नौजके राजा यशोवर्मन के दिग्विजय के समय मगध के जीवगुप्त-II को झारखण्ड में शरण लेनी पड़ी थी

पूर्व-मध्यकाल में झारखण्ड

  • ईटखोरीनामक स्थान से पाल शासक महेन्द्र पाल के शिलालेख मिले हैं |
  • ईटखोरीस्थित माँ भद्रकाली की मूर्ति का निर्माण संभवतः पाल काल में हुआ था।
  • नागवंशीराजा मोहन राय तथा गजघंटराय महेन्द्र पाल के समकालीन थे
  • पूर्वमध्यकालीन इतिहास में झारखण्ड को कलिन्द देश कहा गया है
  • कविजयदेव के सांस्कृतिक परंपरा से झारखण्ड संबद्ध रहा है |
  • 12वींसदी में पहली बार उड़ीसा के नरसिंह देव-II ने खुद को झारखण्ड का राजा घोषित किया
  • राजानरसिंह देव-II के ताम्रपत्र में पहली बार झारखण्ड का उल्लेख हुआ है|
 
 
झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें:-
                                      👇

Jharkhand GK in Hindi

 
 
 

इन्हें भी पढ़ें:- 

 
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *