Latest Post

आधार कार्ड को राशन कार्ड से कैसे लिंक करें: ऑनलाइन और ऑफलाइन प्रक्रिया 5 मिनट में खोया हुआ वोटर आईडी कार्ड प्राप्त करें | डुप्लीकेट वोटर आईडी कार्ड
Spread the love
 

झारखण्ड के लोकनृत्य,लोक संगीत व लोक-नाट्य:-

 झारखण्ड लोकनृत्य,लोक संगीत व लोक-नाट्य 

झारखण्ड का लोकनृत्य:-

  • झारखण्ड का सबसे मशहूर लोकनृत्य छऊ नृत्य है ।
  • छऊ नृत्य झारखण्ड के सरायकेला खरसावां जिले में प्रचलित है|
  • सरायकेला के राजकुमार सुधेन्दु नारायण सिंह द्वारा छऊ नृत्य का विदेश में सर्वप्रथम प्रदर्शन 1938 ई. में करवाया गया ।
  • छऊ नृत्य शैली का जन्म स्थान सरायकेला है|
  • छऊ नृत्य ओजपूर्ण नृत्य शैली है, जिसमें पौराणिक एवं ऐतिहासिक कथाओं के मंचन के लिए पात्र तरह-तरह के मुखौटे धारण करते हैं।
  • पइका नृत्य है|
  • सैनिक पोशाक पहनकर पइका नृत्य किया जाता है।
  • जदुर सामूहिक नृत्य है।
  • जदुर नृत्य को नीर सुसंको कहा जाता है।
  • करमा पर्व के अवसर का करम नृत्य सामुहिक रूप से किया जाता है।
  • जतरा सामुहिक नृत्य है|
  • नचनी नृत्य है ।
  • नटुआ पुरुष प्रधान नृत्य है|
  • मगाह नृत्य हो जनजाति में प्रचलित है।
  • अग्नि धार्मिक नृत्य है |
  • पंवड़िया नृत्य जन्मोत्सव के अवसर पर किया जाता है।
  • नचनी नृत्य एक पेशेवर नृत्य है|
 

जनजातीय नृत्य एवं विशेषताएँ:-

 
  • छऊ – सरायकेला खरसावा का मुखौटा आधारित ओजपूर्ण नृत्य शैली।
  • पइका- सैनिक पोशाक के साथ किया जाने वाला नृत्य।
  • जदुर – सामूहिक नृत्य शैली।
  • करमा- त्योहारों के अवसर पर किया जाने वाला सामूहिक नृत्य।
  • जतरा- सामूहिक नृत्य शैली।
  • नटुआ- पुरूष प्रधान नृत्य शैली।
  • पंवड़िया-जन्मोत्सव के अवसर पर किया जाने वाला नृत्य।
  • मगाह – हो जनजाति में प्रचलित नृत्या
 

लोकगीत एवं संगीत:-

 
  • झूमर गीत पर्व-त्योहार के अवसर पर गाया जाता है|
  • अंगनई गीत है ।
  • डइडधरा नृत्य वर्षा ऋतु में मुख्यतः ‘देवथानों’ में गाया जाता है ।
  • दोड, लागड़ें, बहा, साहराय, मातवार, डाहार, गोलवारी, भिनसार, रिंजा, डाण्टा, धुरूमजाक, झिका एवं दासांय लोकगीत का संबंध संथाल जनजाति से है।
  • जदुर, गेना ओर जदुर, करमा, जतरा, जरगा तथा जपी मुंडारी भाषा के लोक गीत हैं|
  • दोड संथालों के प्रेम और विवाह विषयक गीत है।
  • अंड़न्दी हो-मुंडाओं के प्रेम और विवाह विषयक गीत है।
  • जपी मुंडाओं के आखेट विषयक लोकगीत है।
  • सरहुल/बाहा पर्व से संबंधित जदुर बसंत गीत है ।
  • हैरो तथा नोमनामा लोकगीत का संबंध हो से है।
  • जनानी झूमर-अंगनई, डोमकच-झूमता, विवाह-झंझाइन महिलाओं द्वारा गये जानेवाले लोकगीत है।
  • झूमर गीत झूमर राग में गाया जाता है।
  • अंगनई गीत अंगनई राग में गाया जाता है।
  • करमा, सोहराय और अन्य जनजातीय त्योहारों में समूह नृत्य और गायन में झूमर राग के विविध प्रकार प्रकट होते हैं ।
  • झंझाइन गीत जन्मोत्सव के अवसर पर गया जाता है।
  • डोमकच गीत विवाह के अवसर पर गया जाता है।
  • जतरा, धरिया, असाढ़ी, करमा, मट्ठा तथा जादुर उराँव जनजाति के लोकगीत है।
 

लोक संगीत व उनके गाये जाने के अवसर:-

 
  • डोमकच—- विवाह के अवसर पर स्त्रियों द्वारा गाया जाता है
  • झूमर—- तीज, करमा, जितिया, सोहराय के अवसर पर गाया जाता है।
  • झंझाइन—-जन्म संबंधी संस्कार के अवसर पर स्त्रियों द्वारा गाया जाता है।
  • डइड़धरा—-वर्षा ऋतु में देवस्थानों में गाया जाता है।
  • प्रातकली—-इसका प्रदर्शन प्रातः काल में किया जाता है।
  • अधरतिया—-इसका प्रदर्शन मध्यरात्रि में किया जाता है।
  

लोक-नाट्य:-

 
  • जट-जटिन लोकनृत्य में वैवाहिक जीवन को प्रदर्शित किया जाता है।
  • जट-जटिन तथा भकुली बंगा लोक नाट्य का आयोजन सावन-कार्तिक माह में किया जाता है|
  • भकुली बंका लोक नाट्य में जट एवं जटिन के द्वारा नृत्य किया जाता है ।
  • किरतनिया लोक नाट्य का संबंध श्रीकृष्ण से है|
  • डोमकच लोकनाट्य का सार्वजनिक प्रदर्शन नहीं किया जाता है|
 

झारखंड जीके का टेस्ट देने के लिए image पर लिंक पर क्लिक app download करें:-

Jharkhand Gk in Hindi JSSC
 

इन्हें भी पढ़ें:- 

  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *