Latest Post

लाडला भाई योजना की शुरुआत ,10,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे। BSTC Rajasthan Pre-DElEd Result 2024 Declared: डायरेक्ट लिंक और डाउनलोड करने के चरण
Spread the love
 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना 
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना
 

pradhanmantri fasal bima yojana hindi:-

 

कृषि क्षेत्र में मौसम केअनेक घटनाओं के कारण कई कठिनाइयों से भरा होता है| कृषि में किसानों को कभी-कभी बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है यही सब समस्याओं को देखते हुए भारत सरकार द्वारा वर्ष 1999 में ‘राष्ट्रीय कृषि बीमा योजनाकी शुरुआत की गई थी, जिसे संशोधित कर वर्ष 2010 में राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना कर दिया गया| यह सब योजनाएं इसलिए बनाई जाती हैं ताकि किसानों को जो भी फसल पैदावार के समय में नुकसान हुआ हो उसे सरकार की तरफ से उस नुकसान की क्षतिपूर्ति हो सके| इन सब कोशिशों के बावजूद भी मात्र 23 प्रतिशत किसान बीमा का लाभ उठा सकें| इसी  प्रकार का बीमा 13 जनवरी 2016 से ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना‘ प्रारंभ की गई| इस योजना से कम प्रीमियम दरों पर सभी किसानों को सभी प्रकार की फसलों का बीमा प्रदान किया जा रहा है|

 

उद्देश्य:-

 

  • अनेक मौसमी घटनाओं, कीड़े मकोड़े एवं बीमारियों के कारण फसलों को नष्ट होने की स्थिति में किसानों को सरकार की तरफ से धन की व्यवस्था की जाती है|
  • किसानों को इससे विश्वास होता है और नियमित तौर पर खेती करने के लिए उत्साह मिलता है| इससे किसानों की आय में भी वृद्धि होती है|
  • किसान बिना डरे उन्नत किस्म के बीज को आधुनिक तरीके से उत्पादन करने सहायक होता है|

 

कौन-कौन फसल का कवरेज मिलता है:-

 

  • खाद्यान्न फसलों में अनाज, मोटे अनाज और दाले
  • तिलहन
  • वार्षिक वाणिज्यिक बागवानी एवं फसलें का कवरेज मिलता है|

 

किन-किन जोखिमों में कवरेज मिलता है:-

 

  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना‘ में फसल नष्ट, बुवाई में अवरोध, फसल होने के उपरांत नुकसान, तथा क्षेत्रीय आपदाओं को शामिल किया गया है|
  • तूफान, बाढ़ भूस्खलन, सुखा, आग से नुकसान, किट मकोड़े, बीमारियों के कारण होने वाली फसल नष्ट होने के कारण किसानों को बीमा का लाभ मिलता है|
  • यदि फसल के कटने के बाद उसे 14 दिन तक खेतों में रहने की स्थिति में, फसल को नुकसान होने पर किसानों को बीमा का लाभ मिलता है|
  • अगर स्थानीय आपदाओं के कारण नष्ट होता है तो यूनिट आधारित आकलन के बजाय व्यक्ति आधारित आकलन पर बीमा का भुगतान किया जाता है|

 

अप्लाई कैसे करें:-

 

  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से अप्लाई किया जा सकता है| अप्लाई करने के लिए आपको इस वेबसाइट पर क्लिक करना होगा|
  • प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना आवेदन करने के लिए पहले ऑफिशियल वेबसाइट पर अपना एक अकाउंट बनाना होगा|
  • अकाउंट बनाने के लिए सबसे पहले रजिस्ट्रेशन करना होगाऔर पूरी जानकारी भरनी होगी |
  • पूरी जानकारी भरने के बाद आपका अकाउंट बन जाएगा अकाउंट बनने के बाद अकाउंट में लॉगिन करके आपको सही-सही सभी जानकारी भरना होगा|

 

इसके प्रमुख तथ्य:-

 

  • इस योजना को 18 फरवरी 2016 से लागू कर दिया गया था| इस योजना को पूरे देश में’ एक देश- एक योजना’ के आधार पर लाया गया था|
  • इस योजना में किसानों द्वारा दिया जाने वाला प्रीमियम राशि को बहुत कम कर दिया गया है|
  • किसानों द्वारा सभी खरीफ फसलों के लिए 2% ,सभी रवि फसलों के लिए 1.5% और वार्षिक वाणिज्य एवं बागवानी फसलें के लिएकेवल 5% प्रीमियम है|
  • जिन किसानों ने ऋण लिया है, उसे अनिवार्य रूप से बीमा करवाना होगा, जबकि अन्य के लिए इच्छा अनुसार है|
  • फसलो की बीमा हेतु ‘भारतीय कृषि बीमा कंपनी’ के अलावे अनेक निजी क्षेत्रों की कंपनी को भी इसमें शामिल किया गया है|
  • इस योजना मे आधुनिक तकनीकों के प्रयोग द्वारा सटीक और तीव्र आकलन करके त्वरित भुगतान पर जोर दिया गया|
  • वर्ष 2021- 2022 के बजट में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लिए 16000 करोड रुपए दिए गए हैं, जो वर्ष 2020-2021 के बजट से लगभग 4.5% अधिक है|

 

निष्कर्ष :-

 

भारत एक कृषि प्रधान देश है| यहां की अधिकतर आबादी कृषि पर निर्भर रहती है|लगभग 55% आबादी की आजीविका का प्रमुख स्रोत कृषि एवं इससे संबंधित क्षेत्र जुड़े हैं और इसी कारण से कृषि क्षेत्र में जोखिम की संभावना को दूर करने के लिए ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना’अनेक मायनों में अपने पहले के फसल बीमा योजनाओं से श्रेष्ठ है| एक और यह योजना कृषि के नवीन और तकनीकी का प्रयोग करके किसानों को बीमा का भुगतान तुरंत किया जा रहा है| इन सब को देखते हुए ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना’ किसानों के लिए वरदान साबित हो रहा है|

 

इन्हें भी पढ़ें:- 

 

 

 

FAQ:-

 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की शुरुआत कब हुई—–13 जनवरी 2016

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को किसने लागू किया—– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

फसल कटने के पश्चात कितने दिन तक खेत में रहने की स्थिति में कृषि आपदा के कारण हुई हानि की स्थिति में भुगतान किया जाता है—–14 दिन

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किस प्रकार की योजना है—— फसल बीमा से संबंधित

भारत की अधिकतर आबादी किस निर्भर है—– कृषि

खरीफ फसल के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का प्रीमियम कितना——2%

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *